मंगलवार, 9 फ़रवरी 2010

वायरस IS2010

ब्लॉग पर बहु कुछ लिखना चाहती हूं परंतु समय बहुत बडी समस्या है । HATS OFF to the bloggers जो regularly दो चार दिन मे एक पोस्ट डाल दिया करते है ।

खैर, पिछले कुछ दिन बडे व्यस्तता मे बीते। ऑफिस,घर, घर मे मेहमानो की आवाजाही व्यस्तता का बडा कारण रही। रही सही कसर कम्प्युटर पर ज़बर्दस्त वायरस अटैक ने पूरी कर दी।मेरा पीसी IS2010 नामक वायरस की चपेट मे आ गया ।
यह एक बहुत ही खतरनाक वायरस साबित हुआ ,जो मेरे स्पैम मेल के जरिये आया। इस वायरस के कारण पीसी की स्पीड स्लो हो गयी ,डेस्क टॉप वाल पेपर हैक हो गया, मशीन चलते चलते हैंग़ होने लगी और प्रोग्राम/सॉफ्ट्वेयर चलने बन्द हो गये । इंटर्नेट चलना बन्द हो गया । अब बचा क्या ......?????

कम्प्युटर को ठीक करने मे बडे पापड बेलने पडे। रजिस्ट्री फाइलो मे बहुत सारे रद्दो बदल, सिस्टम फाइलो मे जा कर वायरस सर्च और स्केनिंग , रिमुविंग ,आदि आदि ...। Thank God, PC को फॉर्मेट किये बिना काम बन गया ।

ज़रा एक मिनट का समय निकाल कर गुगल पर सर्च करियेगा .. और खुद देखिये खुराफाती IS2010 कितना खतरनाक है ।(कुछ अपनी ही स्टाइल मे Happy New Year 2010 मनाता हुआ)|

इस वायरस को बनाने वाला बन्दा बस एक बार मेरे हाथ लग जाये ,...............।

5 टिप्पणियाँ:

abcd ने कहा…

:-)

kshama ने कहा…

Bakhoobi likha hai aapne..wo bhi rozmarra ka vishay! Congrats!
"Bikhare sitare" pe comment ka shukriya..ye ek satykatha hai..shuruki kadiyon me chand tasveeren daalee hain! Kabhi samay ho to zaroor dekhiyega!

Apanatva ने कहा…

nice post virus se bachee raho ye hee duahai............

Rahul Priyadarshi 'MISHRA' ने कहा…

keep it up,nice job.invent a virus killer.....

संहिता ने कहा…

Dear Rahul,
Wish to invent a device to kill a virus maker... seek u'r help. :)